आधुनिक भारतीय फुटबॉल का जनक :सय्यद अब्दुल रहीम


आजकल क़तर में फुटबॉल का वर्ल्ड कप FIFA 2022 चल रहा है, रोज़ाना उससे जुड़ी ख़बरें न्यूज़ चैनल्स, अख़बार और सोशल मीडिया पर दिखाई जा रही हैं, वर्ल्ड कप की इस गहमागहमी के बीच कुछ ज़िक्र भारतीय फुटबाल का भी कर लिया जाए,

भारतीय फुटबॉल टीम का FIFA रैंकिंग में 106th स्थान है, एक समय ऐसा था जब भारतीय टीम एशिया के बेहतरीन टीमों से एक समझी जाती थी, वो दौर भारतीय फुटबॉल का स्वर्णिम युग कहा जाता है, ये स्वर्णिम युग उस वक्त था जब भारतीय टीम के कोच सैय्यद अब्दुल रहीम साहब थे,

आइए जानते हैं भारतीय फुटबॉल के उस महान खिलाड़ी, कोच और मैनेजर के बारे में जिनके समय को भारतीय फुटबॉल का स्वर्णिम युग कहा जाता है, जो आधुनिक भारतीय फुटबॉल के आर्किटेक्ट के नाम से जाने जाते हैं,

उनका नाम है सैय्यद अब्दुल रहीम, उनकी पैदाइश निज़ाम के हैदराबाद में 17 अगस्त 1909 को हुई, प्रोफ़ेशन से टीचर थे, और फुटबॉल के खिलाड़ी थे, 1950 से मृत्यु तक यानी 1963 तक वो भारतीय फुटबाल टीम के कोच रहे, इनके कोच का कार्यकाल भारतीय फुटबॉल के स्वर्णिम युग के तौर पर जाना जाता है,

इनकी सरपरस्ती में भारतीय टीम एशिया के सबसे बेहतरीन टीमों में से एक बन गई, और 1951 में पहली बार एशिया कप हासिल किया, इस मैच में भारत ने ईरान को हरा कर गोल्ड मेडल हासिल किया था।

1951 से 1963 के बीच सैय्यद अब्दुल रहीम साहब के कार्यकाल के दौरान इंडियन फुटबॉल टीम ने नई बुलंदियों को छुआ, शुरुआत 1951 में एशियन गेम्स की जीत से हुई, जिसमें भारत ने गोल्ड मेडल हासिल किया, उसके बाद 1952 में quadrangular cup में भारत ने जीत दर्ज की और लगातार चार साल तक 1953, 1954, और 1955 में quadrangular Cup जीतता रहा, 1958 के एशियन गेम्स में भारत चौथे स्थान पर रहा, और 1959 के मेंड्रेका कप में दूसरा स्थान पर रहा, 1962 के एशियन गेम्स में फिर से गोल्ड मेडल हासिल किया,

1956 के मेलबॉर्न ओलंपिक में भारत सेमीफाइनल तक पहुंचा, इस पोजीशन तक पहुंचने वाली एशिया की पहली टीम थी, भारत से पहले कोई भी एशियन फुटबॉल टीम उस स्तर तक नहीं पहुंच पाई थी, ये भारतीय टीम के आजतक की सबसे बड़ी कामयाबी समझी जाती है।

अब्दुल रहीम साहब बेहतरीन टैक्टिक और इनोवेशन के लिए भी याद किए जाते हैं, जब दुनिया की ज़्यादातर फुटबॉल टीम 2-3-2-3 या 3-3-4 फॉर्मेशन के साथ खेलती थी, अब्दूल रहीम साहब ने 4-2-4 फॉर्मेशन को भारतीय टीम में इंट्रोड्यूस किया, उनके द्वारा भारतीय टीम में इस फॉर्मेशन को इंट्रोड्यूस करने के कुछ सालों बाद 1958 के वर्ल्ड कप में ब्राज़ील की जीत ने इस फॉर्मेशन को दुनिया भर में मशहूर बना दिया, और बहुत सी यूरोपियन टीमों ने भी इसे कॉपी किया।

अब्दुल रहीम साहब 1943 से लेकर अपने इंतकाल तक हैदराबाद फुटबॉल एसोसिएशन के सेक्रेटरी रहे, उन्होंने देश में फुटबॉल का ऐसा इको सिस्टम डेवलप किया जिसने भारतीय टीम को सालों तक बेहतरीन खिलाड़ी दिए।

कैंसर की वजह से 1963 में इनका इंतकाल हो गया,

इनके जीवन पर एक biopic ‘ मैदान ‘ नाम से बन रही है, जिसमें अजय देवगन इनके किरदार में नज़र आएंगे,

संवाद

मो अफजल

~Md Iqbal भाई

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

पाकिस्तानी मीडिया ने की पीएम मोदी की जमकर तारीफ, कहा- भले नफरत करें लेकिन पाकिस्तान के एक प्रमुख अखबार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर...

READ MORE

कांग्रेस द्वारा मोदी जी से पूछे गए वह क्या है पांच प्रश्न और उनके जवाब का विवरण ? खुलासा जानिए

December 23, 2022 . by admin

चीनी घुसपैठ पर, प्रधानमंत्री मोदी से पांच सवाल 17 दिसंबर, 2022 को लोकसभा में कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से चीन पर 7 प्रश्न पूछे थे, पर...

READ MORE

अगले 90दिनों में चीन की 60%से ज्यदा आबादी होगी संक्रमित लाखों लोग काल के गाल में समा जायेंगे,मचेगी तबाही?

December 21, 2022 . by admin

आगामी 90 दिनों में चीन की 60% से अधिक आबादी संक्रमित होगी COVID-19 प्रतिबंधों में ढील के बाद, चीन कोरोनोवायरस मामलों में भारी वृद्धि का...

READ MORE

TWEETS