पहले तो चाय बेचते थे,आज अय्याशी के मामले में दुनिया के किसी भी तानाशाह शहंशाह और राष्ट्राध्यक्ष से कुछ कम नहीं है बल्कि इस से भी चोटी पर निकल चुके है ये जनाब!

अय्याशी के मामले में नरेंद्र मोदी दुनिया के किसी तानाशाह, शहंशाह और राष्ट्राध्यक्ष से आगे निकल चुके हैं। जब देश की आर्थिक सबसे खराब है, सरकार के पास कई जरूरी कामों के लिए पैसे नहीं हैं। विदेशी मुद्रा भंडार कम होता जा रहा है और बैंक का एनपीए रिकार्ड ऊंचाई पर है। रुपया बेदम है और वर्ल्ड बैंक का सूद बढ़ता जा रहा है।

ऐसे हालात में खर्च की प्राथमिकता पर बहस होनी चाहिए, लेकिन देश के खजाने से कब क्यों और कितना निकले यह वित्त मंत्रालय भी तय नहीं कर पा रहा है। इस देश के लिए आज प्रधानमंत्री को पालना वैसा ही हो गया है जैसे किसी गरीब के लिए हाथी पालना जैसे हो। मोदी के जन्मदिन पर जनता के टैक्स का 2 हजार करोड़ खर्च कर दिया है। बाकी साल में कितना खर्च होता है, यह तो अलग बहस का विषय है।

खुद के इस्तेमाल के लिए महंगे सूट बूट,पहनना वे रोजगारी से परेशान मुल्क के वजीर ए आजम ने अपने चलने के लिए बारह बारह करोड़ की कई कारें खरीद रखी है।और तो और अपने विदेश दौरे के लिए आराम से सजा तकरीबन आठ हजार करोड़ का बोइंग खरीदा गया है।
लाखो रुपए के इटेलियन सूट,अमरीकन केनोथ कोल जूते, मेड इन अमेरिका का लाखों रुपए का आई फोन,इटेलियन रोजर दुबियस घड़ी,पढ़ने के लिए कपर विजन और धूप के बरसेएस चश्मे इस्तेमाल करते है।इन सबकी कीमत लाखो करोड़ों में है। इनके द्वारा जितनी महंगी शालो और जैकेट्स का इस्तेमाल किया जाना भारत जैसे गरीब मुल्क के लोगो ने कभी देखा भी नहीं था न ऐसा कभी सोचा भी नही था।

क्या हम इसी लिए गणतंत्र हुए थे.क्या आपने कभी पूछा है कि देश के लिए यह प्रधानमंत्री कितना महंगा साबित हुआ है क्या संविधान में वर्णित हम भारत के लोग इतने महंगे प्रधानमंत्री को झेलने की औकात रखते हैं?

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

सुशील कुमार पाण्डेय महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु अंतिम संस्कार में दुनियाभर के करीब 500 विश्वनेता होने वाले...

READ MORE

विश्व बैंक कोई सरकारी बैंक नही पर इस बैंक के कुल कितने मालिक है? जानिए

June 21, 2022 . by admin

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

TWEETS