मोदीजी के अंध भक्तो की नजर में मोदी ही विष्णु भगवान का 11वा अवतार है?

संवाददाता

मोहमद ताहिर

मोदी के अंधभक्तों के अनुसार:

नेहरू गद्दार थे,
राजीव भ्रष्ट थे,
इंदिरा गांधी ने पारसी / मुल्ले से शादी की थी,
मायावती भ्रष्ट है,
अखिलेश टोंटी चोर है,
ममता ब्राह्मण हैं लेकिन फिर भी मुल्ली है,
केज़रीवाल चोर है।
CPI (M) वाले चीन के साथ मिल चुके हैं,
चंद्रशेखर, कनैहया कुमार सब टुकड़े टुकड़े गैंग के सदस्य हैं।

राहुल गांधी तो पप्पू है,
सोनिया गांधी विदेशी है और बार डांसर थी,
उद्धव ठाकरे नकली हिंदू है।
पीडीपी ने बीजेपी के साथ सरकार बनाई थी, तब देशभक्त थी मगर अब पाकिस्तानी एजेंट है,
भगवंत मान शराबी है, यहांतक कि मोदी भक्तों की माने तो
पीएम मोदी ने ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक को बताया ‘भ्रष्ट’, और बीजेडी को ‘अक्षम।
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन और उनका परिवार खदानों के दलाल हैं, भ्रष्टाचारी हैं,
टीआरएस ‘भ्रष्टाचारी है और चंद्र शेखर राव की तेलंगाना सरकार में परिवारवाद है।

मोदी जी की राय
अगर किसान आंदोलन करे तो अन्नदाता नहीं, खालिस्तानी, आंदोलनजीवी और देशद्रोही हो गये।
मोदी का विरोध करने वाले हिंदू नहीं हैं।
बेरोज़गार अब देशद्रोही हैं।
हमारे राष्ट्र की गौरव मैडल लाएं तो महान हैं लेकिन अगर बीजेपी के बलात्कारियों नेताओं के खिलाफ़ आवाज उठाएं तो टुकड़े टुकड़े गैंग हैं।
पत्रकार अब अर्बन नक्सलवादी हो गये।

इन सबका कहना है कि
देश के पिछले 13 प्रधानमंत्री सभी चोर, भष्ट और बेईमान थे, 67 सालों बाद जा कर पहला ईमानदार प्रधानमंत्री मोदी देश को मिला है।
मोदी ही विष्णु का 11वां अवतार हैं, अडानी और अंबानी जैसे उद्योगपतियों की दलाली करना देशभक्ति हो गई। महँगाई, बेरोजगारी, गिरती अर्थव्यवस्था और रूपये की गिरती कीमत विकास हो गया।
2014 से पहले धरती घूमनी रूक चुकी थी, फिर मोदी जी प्रकट हुए तब जा कर धरती अपनी धुरी पर फिर से घूमने लगी, जैसे ही वो प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे तभी वो घूमना बंद कर देगी। उसके ही तप से सूरज, चांद और तारे उदय और अस्त होते हैं।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT