TAFISA के नाम एवं लोगों का दुरुपयोग और इंटरनेशनल प्रतियोगिता के नाम पर फर्जीवाड़ा

नई दिल्ली अभी देश में ओलिंपिक के नाम पर संस्था बनाने और गेम्स करने का सिलसिला बंद भी नहीं हुआ कि देश में एक नया गोरखधंधा शुरू हो गया हैं।कुछ लोगो ने ओलिंपिक में नाम पर, जैसे रूरल ओलिंपिक, ट्रेडिशनल ओलिंपिक, स्टूडेंट ओलिंपिक, मिशन ओलिंपिक आदि नाम से फेडरेशन बनकर खिलाड़ियों को गुमराह किया, जिसकी न्यूज़ देश में काफी वायरल हुई थी।

अब काफी फेडरेशन द्वारा, जिनमे कुछ TAFISA के सदस्य हैं और कुछ सदस्य न होते भी TAFISA का नाम और लोगो के साथ IOC, WHO, UNESCO आदि के लोगो लगाकर गेम्स आयोजित करना और खिलाड़ियों को गुमराह करना शुरू कर दिया हैं।

साथ ही कुछ फेडरेशनस द्वारा इंटरनेशनल टूर/ इंटरनेशनल चैम्पियनशप गोवा, श्री लंका, नेपाल, थाईलैंड, कनाडा, लंदन आदि लिखकर भी खिलाड़ियों से पैसा बटोरा जा रहा हैं। भोले भाले खिलाडी TAFISA , IOC, WHO, UNESCO आदि लोगो देखकर उनके बहकावे में आ जाते हे और उनकी मान्यता TAFISA , IOC, WHO, UNESCO और उनके नेशनल यूनिट्स के साथ प्रमाणित भी नहीं करते।

सोचने वाली बात यह हैं कि भारतीय संस्थाओ द्वारा नेपाल, भूटान, श्री लंका, थाईलैंड आदि देश में गेम्स/ प्रतियोगिता आजोजित की जाती हैं और वहां की स्पोर्ट्स कौंसिल, सरकार को कोई जानकारी भी नहीं होती।

द एसोसिएशन फॉर नेशनल स्पोर्ट्स फेडरेशनस, जो की TAFISA की एक नेशनल यूनिट के रूप में अधिकृत हैं द्वारा जानकारी दी गयी कि काफी खिलाड़ियों द्वारा जब प्रमाण पत्र वेरिफिकेशन के लिए ऑफिस आते हैं तो पता चलता हैं की आमुक फेडरेशन द्वारा ANSF के साथ साथ TAFISA , IOC, WHO, UNESCO आदि का नाम/ लोगो का प्रयोग किया और प्रतियोगिता आयोजित की ।

काफी खिलाड़ियों से बात करने पर पता चलता हैं की नेपाल, भूटान या थाईलैंड में कोई इंटरनेशनल प्रतियोगिता आयोजित ही नहीं होता हैं, प्रतियोगिता के नाम पर केवल एक होटल बुक होता हैं और वही पर खानापूर्ति करके प्रमाण पत्र वितरित कर दिए जाते हैं।

साथ ही द एसोसिएशन फॉर नेशनल स्पोर्ट्स फेडरेशनस” के ऑफिस प्रतिनिधि द्वारा देश सभी खिलाड़ियों और कोचों को सलाह दी गयी कि किसी भी नेशनल और इंटरनेशनल प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने से पहले उसकी मान्यता के बारे में जरूर जाँच कर लिया करे, वैसे भी आजकल इंटरनेट का जमाना हैं और सबके पास स्मार्ट फ़ोन हे तो गूगल जरुर किया करे।

संवाद
मो जहांगीर चीफ ब्यूरो

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS