सोशल मीडिया पर अक्सर सवाल पूछा जाता है कि डॉ.आंबेडकर वकील थे तो भगत सिंह का केस क्यों नहीं लड़े? जाने क्या थी मजबूरियां !

images (1)

रिपोर्टर:-

यह सवाल व्यंग, नफरत या आक्रोश अथवा जिज्ञासावश में पूछा जा सकता है।
सवाल प्रथम दृष्टया उचित लगता है, परंतु अक्सर इसका मकसद दुष्प्रचार होता है।
इसका सटिक जवाब जानने से पहले हमें हालातों को जानना होगा।
23 मार्च 1931 को भगत सिंह को फांसी दी गई थी।
यह वह दौर था जब शूद्र-अतिशूद्र या यूं करे कि अंबेडकर जब स्कूल जाते थे तो उन्हें स्कूल के बाहर दरवाजे के पास बैठकर पढ़ाई करना पड़ता था।
चूंकि भगत सिंह सिख थे तो उन्हें यह दंश झेलना नहीं पड़ा।
शिक्षित होकर अंबेडकर जब नौकरी करने बड़ोदा गए तो उन्हें किराये पर होटल, धर्मशालाएं, कमरा तक नहीं मिला।
जब वे सिडनम कालेज में प्रोफेसर बने तो बच्चे उनसे पढ़ने के लिए राजी नहीं हुए।

ऐसे में जून 1923 से अंबेडकर ने वकालत का काम शुरू किया। उन्हें बार काउंसिल में भी बैठने के लिए जगह नहीं दी गई। अस्पृश्ता के चलते अंबेडकर को केस नहीं मिल पाते थे।
एक गैर ब्राह्मण अपना केस हार जाने के बाद अंबेडकर के पास आए तो उनके केस की जीत ने उन्हें काफी शोहरत दी।
लेकिन वकालत अंबेडकर की रोजी-रोटी नहीं थी।
जातिवाद के कारण केस नहीं मिलने पर उन्होंने बाटली बॉयज अकाउंटेंसी में लेक्चरर का काम शुरू कर दिया।

हालातों को जानना जरूरी यह वह दौर था जहां किसी अछूत के छूने भर से हिन्दुओं का धर्म भ्रष्ट हो जाता था।
इस दौर में आर्थिक जद्दोजहद के बीच जब कोई केस देने के लिए तैयार न हो,  वहां भगत सिंह का केस अंबेडकर द्वारा न लड़ने का बेतुका तर्क पेश करना महज मूर्खता है।
वैसे भी भगत सिंह का केस लाहौर में चल रहा था। जबकि अंबेडकर मुंबई में रहा करते थे।
और भगत सिंह के केस की पैरवी जाने माने वकील आसिफ अली कर रहे थे। वकालत के क्षेत्र में उनका दबदबा था !
ऐसे में आसिफ अली को हटाकर अंबेडकर को केस देने की कल्पना भी कोई कर नहीं सकता था।
आरएसएस के गोलवलकर के मित्र भगत सिंह विरोधी
भगत सिंह के खिलाफ जहां सुप्रसिद्ध वकील आसिफ अली पैरवी कर रहे थे।
वहीं अंग्रेजों की तरफ से पैरवी करने वाले ब्राह्मण वकील का नाम था सूर्य नारायण शर्मा।
यह वही शर्मा है जो आरएसएस के संस्थापक गोलवलकर के बहुत अच्छे मित्र थे।
याद रहे कि अंबेडकर ने 150 वर्षों की अंग्रेजों की राजनीतिक गुलामी के मुकाबले में ढाई हजार वर्ष से भी अधिक की सामाजिक गुलामी को नष्ट करने के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया।
ऐसे में आजादी की लड़ाई को लेकर जहां क्रांतिकारियों का नाम गर्व से लिया जाता है,
वहीं सामाजिक आजादी के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान पर अंबेडकर का नाम अभिमान के साथ लिया जाता है।

एक पहलू यह भी !

जिस समय संपूर्ण देश में एकमात्र अछूत वकील के तौर पर अंबेडकर की पहचान थी, तब भी उन्हें केस नहीं मिल पाए।
आर्थिक तंगी के चलते प्रोफेसर की नौकरी करनी पड़ी।
ऐसे में भगत सिंह का केस स्वयं पहल कर, मुंबई से लाहौर जाकर लड़ना किसी भी दृष्टिकोण से सुविधाजनक नजर नहीं आता।
यदि केस लड़ना भी चाहे तो मशहूर वकील आसिफ अली से केस वापिस लेकर अंबेडकर को सौंपने का कोई तार्किक मुद्दा नजर नहीं आता।

एक पहलू यह भी है कि जहां ब्राह्मण वकील अंग्रेजों की पैरवी कर रहे थे, वहां देश में अनेक नामचीन वकील क्या तमाशा देख रहे थे ?
जबकि वर्ष 2013 में पाकिस्तान के वकील इम्तियाज कुरैशी ने भगत सिंह की केस को दोबारा खुलवाया। इसकी पैरवी अब्दुल रशीद ने की।
2014 में अब्दुल ने एफआईआर की कॉपी मांगी तो पता चला कि एफआईआर में भगत सिंह का नाम ही नहीं है।
उन्हें केवल रजिस्टर के आधार पर फांसी दे दी गई!
और अंत में
अंबेडकर की निष्ठा व कार्य को लेकर समय-समय पर मनुवादियों द्वारा सवाल उठाया जाना एक आम बात है।
लेकिन हमें उतनी ही सजगता से सभी तरह के आक्षेप व आरोपों का प्रतिउत्तर देना आना चाहिए।
इसके लिए लगातार उन सवालों का पीछा करते हुए उसकी गहराई में जाने का विवेक निर्माण किया जाना चाहिए।

सवाल भले ही बचकाने हो, लेकिन उसे पूछने वाले व्यक्ति का मकसद यदि अंबेडकर के चरित्र हनन का हो तो हमें चुप रहकर सवालों से मुंह मोड़ लेना ठीक नहीं।
अंबेडकर के लिए अंग्रेजों की 150 वर्ष की गुलामी से कहीं अधिक जरूरी मुद्दा था, 2500 वर्ष की सामाजिक व वर्ण व्यवस्था से उपजी जातियवादी गुलामी को समाप्त करना।
अत्यंत जरूरी लड़ाई उन्होंने लड़ी। अब हम क्यों चुप रहे?
सोचिए !

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

नई दिल्ली:- राज्यसभा ने शस्त्र अधिनियम 1959 में संशोधन के लिए शस्त्र अधिनियम (संशोधन) विधेयक 2019 पारित किया। इसे पहले लोकसभा ने सोमवार को मंजूरी...

READ MORE

अगली बार रेलयात्रियों के लिए क्यों अच्छी खबर नही है ? जाने !

December 12, 2019 . by admin

रिपोर्टर:- रेल में सफर करना और महंगा होने जा रहा है। भारतीय रेलवे (Indian Railway) जल्द ही यात्री किराये में बढ़ोतरी कर सकता है। खबर...

READ MORE

दिन भर चली चर्चा के बाद देर रात पास हुआ नागरिकता (संशोधन) बिल, उक्त बिल में मुस्लिमो पर केंद्र सरकार का रवैय्या सवालों के घेरे में ?

December 10, 2019 . by admin

रिपोर्टर:- पक्ष में पड़े 311 मत तो विरोध में मात्र 80, कांग्रेस ने किया बिल का विरोध ! बहुचर्चित नागरिकता संशोधन बिल को अंततः दिन...

READ MORE

TWEETS