वर्ल्ड कराटे फेडरेशन ने 14भारतीय कराटे करों का रेफरी व jaj लाइसेंस किया रद्द क्या वजह होगी? जाने

मो जहांगीर
चीफ ब्यूरो

वर्ल्ड कराटे फेडरेशन ने 14 भारतीए कराटे बाजों के रेफरी व जज लाइसेंस निरस्त कर दिए

नई दिल्ली: खेलों में राजनीति के सक्रीय होने से प्रतिभावान खिलाडियों को जगह नहीं मिल पाती, खेलों के लिए अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय,राज्य व जिला स्तर पर संघ, महासंध है , प्रत्येक ओलम्पिक खेल का प्रतिनिधत्व उसके संबंधित अंतरराष्ट्रीय खेल महासंग द्वारा किया जाता है ,जो बदले में खेलो के दौरान अपने संबंधित खेलो में आयोजनों को संचालित करने में मदद करता है !

एक खेल को ओलंपिक खेल बनाने के लिए , इसके अंतरराष्ट्रीय खेल संघ को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिती द्वारा मान्यता प्राप्त होना चाहिए अर्थात वर्ल्ड कराटे फेडरेशन जो अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा एक मान्यता प्राप्त महासंघ है जो पुरे विश्व में कराटे नेतृत्व करता है और इसी महासंघ में भारतवर्ष के कई कराटेकरो को रेफरी, जज आदि का लाइसेंस निर्गत किया गया है ,

परंतु विगत दिनों से संघ विरोधी कार्य में संलिप्तता व अनियमिता रूप दिखा कर अपना प्रभाव बनाने की वजह से वर्ल्ड कराटे फेडरेशन तथा एशियन कराटे फेडरेशन द्वारा अपने तत्काल प्रभाव से 14 भारतीए रेफरी और जज के लाइसेंस को रद्द कर दिया बल्कि अपने महासंघ के ऑफिशियल वेबसाइट से नाम को भी हटा दिया !

रद्द किए गए लाइसेंसधारियों में प्रमजित सिंह (IND R 001), रजनीश चौधरी (IND R 008), योगेंद्र चौहान (IND R 006), डोमिनिक साभियो (IND R034), डॉन बास्को (IND R 174), सुनील कुमार पीलाभूलाथिल (IND R 040), हसरत अली खान (IND R 002), तरुण चक्रवती (IND R 11), अमित कुमार (IND R 061), देवाशीष मंडल (IND R 096), बुलंग मारिक (IND R 104), अशोक दारदा (IND R 164), विजेता (IND R 171) तथा राजकुमार (IND R 196) का नाम सामिल है !

बताते चले कि तत्काल में भारत का एक मात्र कराटे संघ कराटे इंडिया ऑर्गनाइजेशन है जो वर्ल्ड कराटे फेडरेशन, एशियन कराटे फेडरेशन, साउथ एशिया कराटे फेडरेशन द्वारा मान्यता प्राप्त है। तथा कराटे इंडिया ऑर्गनाइजेशन में कई विंग है जो भारत के कराटे खिलाडियों को निखारने में प्रयासरत है।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS