रसूल s a s ने बेवाओं से निकाह कर के रिश्तों को पूरी तरह से कामयाबी से निभा कर दिखाया है, बेवाओं की सोसायटी में जो इज्जत बहाल की है,जो इज्जत वो मर्तबा बेवाओं को दिलवाया है इसकी मिसाल रहती दुनिया तक मिलना ना मुमकिन है!

अफजल इलाहाबाद

हज़रत खदीजा रज़ि दो बार बेवा हो चुकीं थीं, दूसरी बार जब वह बेवा हो गयीं तो उनके मक़ाम व रुत्बे और माल व दौलत की वजह से बडे़ बडे़ सरदारान ए कुरैश कई कई बार उन्हें निकाह का पैगाम भिजवा चुके थे, लेकिन हज़रत खदीजा रज़ि ने अपनी ज़हानत व फहम व फिरासत की वजह से इस हक़ीक़त को खूब जान चुकीं थीं कि उनमें से कोई भी मुखलिस नहीं है ये सभी लोग लालची और महज़ माल ओ जमाल के भूखे हैं इसीलिए उन्होंने ऐसे तमाम पैगामात रद कर दिए थे।

ऐसे में जब रसूलुल्लाह ﷺ हज़रत खदीजा का माल ए तिजारत लेकर गए और उस सफर में बहुत ज़्यादा मुनाफा हुआ और सफर से वापसी पर आप ﷺ ने पूरा पूरा हिसाब हज़रत खदीजा को दे दिया तो
हज़रत खदीजा रज़ि बस सोचती रहीं कि किस क़दर साफ सुथरी है इसकी तिजारत, किस क़दर सच्चा और अमानतदार और मुखलिस इंसान है ?, दूसरों के मुक़ाबले ज़्यादा मुनाफा लाया लेकिन मुआवज़े के मामले में कोई बहस व तकरार नहीं जो मिल गया चुपचाप क़ुबूल कर लिया!

हज़रत खदीजा ने अपने खादिम से सफर का सारा हाल मालूम कर लिया जिससे उन्हें यक़ीन हो गया। हज़रत खदीजा को यही अदा पसंद आयी और वो समझ गयीं कि यही तो वो मताअ ए गुमशुदा है जिसकी उन्हें मुद्दत से तलाश थी।

तब हज़रत खदीजा ने अपने दिल की बात अपनी सहेली नफीसा बिन्त मुनब्बा से कही और उन्हें आप ﷺ की तरफ निकाह का पैगाम लेकर जाने को कहा, जब निकाह का पैगाम पहुंचा तो आप ﷺ ने अपने चचाओं खुसूसन जनाब अबु तालिब और हज़रत हमज़ा रज़ि से मशवरा किया और उन दोनों ने इस रिश्ते की ताईद की । ये दोनों फिर आपकी इज़हार रज़ामंदी के तौर पर हज़रत खदीजा रजि के चचा अम्र बिन असद के पास पहुंचे और आप ﷺ की तरफ से रिश्ते की रज़ामंदी की इत्तेला दी। इस तरह आप ﷺ और हज़रत खदीजा रज़ि रिश्ता ए अज़्दवाज में मुंसलिक हो गए और ये मुबारक रिश्ता हज़रत खदीजा की वफात तक मुसलसल 25 बरस क़ायम व दाएम रहा।

रसूलुल्लाहﷺ की ये पहली शादी थी इसी तरह रसूलुल्लाह की अक्सर शादियां बेवा खातून से ही हुई हैं, रसूलुल्लाह ने बेवाओं से निकाह करके और रिश्ते को पूरी कामयाबी से निभाकर दिखाया है और बेवाओं की सोसाइटी में जो इज्ज़त बहाल की है, जो इज़्ज़त और मर्तबा बेवा औरतों को दिया और दिलवाया उसकी मिसाल रहती दुनिया तक मिलना ना मुम्किन है।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS