ये सब बेमतलब की बात है NDTV को लेकर सोशल मीडिया में फिल हाल जो कुछ मातम हो रहा है!

एनडीटीवी को लेकर सोशल मीडिया में अभी जो मातम हो रहा है वह बेमतलब है, क्योंकि इस चैनल का 95 फीसदी दरबारीकरण तो 2016 में ही हो चुका था जब सरकार ने उसे एक दिन के लिए ऑफ एयर यानी प्रतिबंधित करने का आदेश दिया था।

हालांकि वह आदेश प्रणब रॉय और अरुण जेटली के बीच हुई बैठक के बाद स्थगित कर दिया गया था और तब से आज तक स्थगित ही है। प्रणब रॉय और जेटली की उस मुलाकात के बाद ही एनडीटीवी भक्ति मार्ग पर चल पड़ा था। प्रणब रॉय और राधिका रॉय के यहां आयकर और ईडी के छापे पड़ना भी बंद हो गए थे और उसके बाद उनकी विदेश यात्राओं पर भी कभी रोक नहीं लगी।

जेटली की सिफारिश पर ही इस चैनल में उनके वफादार कई लोगों की भर्ती हुई थी और उनके जो चिंटू पहले से भर्ती थे उनका प्रमोशन हुआ था। ये सारे लोग रोजाना कैमरे के सामने वही करते थे जो आजतक, एबीपी, जीन्यूज, इंडिया टीवी, न्यूज18 आदि तमाम चैनलों में होता है।

पूरे 24 घंटे में एकाध घंटे सरकार की आलोचना वाले एक-दो कार्यक्रम होते थे तो वे भी सरकार की सहमति से ही होते थे, बतौर सेफ्टी वॉल्व, इससे ज्यादा उनका कोई मतलब नहीं था। इसलिए अब औपचारिक रूप से इस चैनल के बिक जाने पर हो रहे रुदन का कोई मतलब नहीं है।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

पाकिस्तानी मीडिया ने की पीएम मोदी की जमकर तारीफ, कहा- भले नफरत करें लेकिन पाकिस्तान के एक प्रमुख अखबार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर...

READ MORE

कांग्रेस द्वारा मोदी जी से पूछे गए वह क्या है पांच प्रश्न और उनके जवाब का विवरण ? खुलासा जानिए

December 23, 2022 . by admin

चीनी घुसपैठ पर, प्रधानमंत्री मोदी से पांच सवाल 17 दिसंबर, 2022 को लोकसभा में कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से चीन पर 7 प्रश्न पूछे थे, पर...

READ MORE

अगले 90दिनों में चीन की 60%से ज्यदा आबादी होगी संक्रमित लाखों लोग काल के गाल में समा जायेंगे,मचेगी तबाही?

December 21, 2022 . by admin

आगामी 90 दिनों में चीन की 60% से अधिक आबादी संक्रमित होगी COVID-19 प्रतिबंधों में ढील के बाद, चीन कोरोनोवायरस मामलों में भारी वृद्धि का...

READ MORE

TWEETS