ये पेंटिंग1897में रिचर्ड कैप्टेन उडविल द्वारा बनाई गई थी टिपू सुलतान को अंग्रेज फौज पर हमला करते हुए बताया गया है ।

यह वो पेंटिंग है 1897 में रिचर्ड कैप्टन वुडविल द्वारा बनाई गई थी जो उस समय London illustrated में प्रकाशित हुई थी इस चित्र में सुल्तान टीपू को अंग्रेज फौज पर हमला करते हुए बताया है इस जंग में सुल्तान टीपू अपने पिता हैदर अली की फौज एक टुकड़ी को कमांड कर रहे थे।

1797 में टीपू सुल्तान ने ज़मान शाह दुर्रानी जो कि अहमद शाह अब्दाली (दुर्रानी) के पोते थे उनके पास अपना एक क़ासिद भेजा था और भारत से अंग्रेजो को बाहर निकालने के लिए गठबंधन का प्रस्ताव रखा था।
जॉर्ज डेवरेक्स ओसवेल लिखते हैं।
अफगान सम्राट ज़मान शाह दुर्रानी का नाम लंबे समय से पूरे भारत में खौफ का पर्याय था, और यहां तक ​​​​कि अंग्रेजों को भी अफगान सेनाओं के अपने दक्षिणी प्रांतों में घुसपैठ का डर था।

अंग्रेज़ जानते थे कि दक्षिण में उनका महान दुश्मन, टीपू सुल्तान के सिवा और कोई नही, जो ज़मान शाह के साथ लगातार गंठबंधन बनाने की कोशिश में है कि ज़मान शाह उनकी सहायता के लिए आए और वह दोनो साथ मिलकर अंग्रेज़ो को समुद्र में धकेल दें और वो वहीं पहुंच जाएं जहां से वो आए थे।

पंजाब में जब रणजीत सिंह सोलह वर्ष की आयु में अपना राजपाट की शुरूआत कर रहे थे तब ज़मान शाह को अंग्रेज़ो पर आक्रमण करने के लिए टीपू से एक महत्वपूर्ण निमंत्रण प्राप्त हुआ, और 1797 में वास्तव ज़मान शाह दुर्रानी पंजाब के रास्ते भारत में प्रवेश कर रहा था जो ब्रिटिश सरकार के लिए एक खतरे का अलार्म था।

सर अल्फ्रेड लायल लिखते है कि अंग्रेजों में अफगानों की घुसपैठ की खबर से भय का माहौल बन गया था। अफ़गानो के आने से पूरे उत्तर भारत में एक हड़कंप मच गया, मुसलमान उनके साथ मिलने की तैयारी कर रहे थे, अवध शासक कोई प्रभावी प्रतिरोध करने में असमर्थ थे, और यदि दुर्रानी दिल्ली की तरफ बढ़ा तो अराजकता और खतरनाक भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती। बंगाल की सीमा की सुरक्षा के लिए इस तरह के एक दुर्जेय मोड़ ने निस्संदेह हर उपलब्ध अंग्रेजी रेजिमेंट को उत्तर की ओर खींच लिया।

लेकिन अंग्रेजों की किस्मत अच्छी थी जो कि 1798 में फारसियों (ईरान) ने अफ़गान के पश्चिमी प्रांतों पर हमला कर दिया। फारसियों से अपने प्रांतो की रक्षा करने के लिए जल्दबाजी में ज़मान शाह दुर्रानी को वापस अफ़गानिस्तान लौटना पड़ा। अगर ज़मान शाह और टीपू सुल्तान मिल जाते तो 224 साल पहले ही भारत से अंग्रेज़ो को खदेड़ दिया गया होता।

संवाद: अफजल इलाहाबाद

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS