मुरादाबाद में मुसलमानों ने एक कालोनी के गेट पर स्थित दो मकान ख़रीद लिए तो नाराज़ हो कालोनी के 81 हिंदुओं ने बैठक कर पलायन की घोषणा कर दी है। बैनर लगा दिया है कि पूरी कालोनी बिकाऊ है?

IMG-20210804-WA0125

रिपोर्टर:-

वाह,क्या माइंडसेट है,इतनी नफ़रत है उस कालोनी के लोगों को मुसलमानों से।
कालोनी के लोगों का कहना है कि जिन मुसलमानों की रजिस्ट्री हुई है उसे रद्द किया जाए।बताते चलें कि भारत के किसी भी निवासी को ज़मीन ख़रीदकर बसने की आज़ादी है।
मकान या संपत्ति ख़रीदने के लिए किसी निवासी को तीसरे पक्ष से इजाज़त लेने की ज़रूरत नहीं है।
बहरहाल,अपने आज़मगढ़ की हम बात करें तो वहाँ दो ही लोग ज़मीनें ज़्यादा ख़रीदते हैं,एक अहीर मतलब यादव और दूसरे मुसलमान।
इसकी वजह ये है कि दोनों अधिक मेहनत करते हैं और पैसा कमाते हैं,अहीर पशुपालन और गट्टे के बल पर ठेका-पट्टा लेकर पैसेवाला हुआ तो मुसलमान गल्फ़ देशों समेत विदेशों में नौकरी और बिज़नेस कर अमीर हुआ।
अब पैसा आया तो उसे इन्वेस्ट भी करना है,लिहाज़ा संपत्ति और ज़मीन में ये दोनों बिरादरी इन्वेस्ट कर रही है और बाकी बिरादरियों के बहुत लोग पुरखों की ज़मीनें बेच रहे हैं। सबसे ज़्यादा ज़मीनें ठाकुरों की बिकीं।
बहुत से ठाकुरों ने पुरखों की ज़मीनें बेचकर ही अपनी ज़िंदगी बिताई,शादी-ब्याह किए।
जब बिटिया का ब्याह होना होता है तो ठाकुर ज़मीन बेच देता है,
यादव और मुसलमान ख़रीद लेते हैं।आज़मगढ़ में जितने ज़मीन के दलाल हैं,
सब के सब अहीरों और मुसलमानों के इर्द-गिर्द ही चक्रमण करते रहते हैं, और ज़मीनें बताते रहते हैं,
वजह कि उन्हें मालूम है कि पैसा इन्हीं के पास है,यही ख़रीदेंगे।
मुरादाबाद में कालोनी वालों को ये भी छटपटाहट है कि जो मकान बेचे गए उन्हें तीन गुनी क़ीमत पर मुसलमानों ने ख़रीदा।
अब तीन गुनी क़ीमत पर ख़रीदें या छह गुनी पर ख़रीदें,इससे कालोनी वालों को मतलब नहीं होना चाहिए।
यूपी में अब मुसलमानों के पास पैसा है,वो अधिक मेहनती हैं,सरकारी टुकड़ों के भरोसे नहीं रहते,
सरकारी नौकरी के भरोसे भी कम रहते हैं,वजह कि मिलती नहीं,भेदभाव होता है!
भाजपा सरकार आने के बाद मुसलमान और अच्छी तरह समझ गया है कि उसे अब सरकारी नौकरी और नहीं मिलनी है।
मुसलमान अपना बिज़नेस करते हैं,प्रोफ़ेशनल सेक्टर में काम करते हैं,।
विदेशों में नौकरी करने जाते हैं,पढ़ रहे हैं, आगे बढ़ रहे हैं।
जिन मुसलमानों ने ज़मीन ख़रीदी है वो अपने घर में रहेंगे,कालोनी के किसी हिंदू के यहाँ नमाज़ पढ़ने तो आ नहीं रहे हैं!,ना उनकी रसोई में गोश्त पकाने आ रहे हैं,तब कालोनी के हिंदू को मुसलमान से क्यों समस्या है?

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

सुशील कुमार पाण्डेय महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु अंतिम संस्कार में दुनियाभर के करीब 500 विश्वनेता होने वाले...

READ MORE

विश्व बैंक कोई सरकारी बैंक नही पर इस बैंक के कुल कितने मालिक है? जानिए

June 21, 2022 . by admin

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

TWEETS