मुगलों ने पूरे भारत को एक किया तो इस देश नाम कोई इस्लामिक नही बल्कि हिंदुस्तान ही रखा ऐसे क्यों?

रिपोर्टर
मो.दादासाहब पटेल

हिन्दुस्तान नाम के बजाय इस्लामिक नाम भी रख सकते थे मुगल !
कौन विरोध करता ?
जिनको इलाहाबाद और फैजाबाद चुभता है वह समझ लें कि मुगलों के ही दौर में “रामपुर” बना रहा तो सीतापुर” भी बना रहा!

अयोध्या तो बसा ही मुगलों के दौर में !

आज के वातावरण में मुगलों को सोचता हूँ और मुस्लिम शासकों को सोचता हूँ तो लगता है कि उन्होंने मुर्खता की!
होशियार तो ग्वालियर का सिंधिया घराना था!
होशियार तो मैसूर का वाडियार घराना था!
होशियार तो जयपुर का राजशाही घराना था!
होशियार तो जोधपुर का भी राजघराना था!
टीपू सुल्तान हो या बहादुरशाह ज़फर शायद यह सब बेवकूफ लोग थे, जो अपने मुल्क़ के लिए चिथड़े चिथड़े हो गए, किसी को देश की मिट्टी भी नसीब नहीं हुई और आज इन सबके वंशज भीख माँग रहे हैं!

अँग्रेजों से मिल जाते तो वह भी अपने महल बचा लेते और अपनी रियासतें बचा लेते!
वाडियार, जयपुर, जोधपुर, और सिंधिया राजघराने की तरह उनके भी वंशज आज ऐश करते!
उनकी औलादें भी आज मंत्री और मुख्यमंत्री बनते!
यह आज का दौर है यहाँ “भारत माता की जय” और “वंदेमातरम” कहने से ही इंसान देशभक्त हो जाता है, चाहें उसका इतिहास देश से गद्दारी का ही क्यों ना हो!
बहादुर शाह ज़फर ने जब 1857 के गदर में अँग्रैजों के खिलाफ़ पूरे देश का नेतृत्व किया और उनको पूरे देश के राजा रजवाड़ों तथा बादशाहों ने अपना नेता माना!
भीषण लड़ाई के बाद अंग्रेजों की छल कपट नीति से बहादुरशाह ज़फर पराजित हुए और गिरफ्तार कर लिए गये!
ब्रिटिश कैद में जब बहादुर शाह जफर को भूख लगी तो अंग्रेज उनके सामने थाली में परोसकर उनके बेटों के कटे हुए सिर लेकर आए!
उन्होंने अंग्रेजों को जवाब दिया कि “हिंदुस्तान के बेटे अपने देश के लिए सिर कुर्बान करके अपने बाप के पास इसी अंदाज में आया करते हैं”!

शायद बेवकूफ़ थे बहादुरशाह ज़फर, जिन्होंने अपने मुल्क़ के लिए खुद को और अपने जवान बेटों को कुरबान कर दिया, और आज उसका नतीजा कि उनकी औलादें भीख माँग कर गुज़ारा कर रहे हैं!
अपने मुल्क़ हिन्दुस्तान की ज़मीन में दफन होने की उनकी चाह भी पूरी ना हो सकी और रंगून के कैदखाने में ही अपनी आखिरी सांस ली, और फिर वर्मा की मिट्टी में दफन कर दिए गये!

अंग्रेजों ने उनकी कब्र की निशानी भी ना छोड़ी और मिट्टी बराबर करके फसल उगा दी, बाद में एक खुदाई में उनका वहीं से कंकाल मिला और फिर शिनाख्त के बाद उनकी क़ब्र बनाई गयी!
सोचिए कि आज “बहादुरशाह ज़फर” को कौन याद करता है ?
क्या मिला उनको देश के लिए अपने खानदान की कुर्बानी से ?
7 नवंबर 1862 को उनकी मौत हुई थी!
लेकिन क्या किसी ने कभी उनको श्रृद्धान्जली भी दी ?
क्या किसी ने उनको याद भी किया
क्या देश उनकी याद मनाता है?
नहीं, किसी ने भी उनको श्रृद्धान्जली नहीं दी और उनको याद भी नहीं किया!
जानते हो क्यों याद नहीं करते?
क्योंकि वह मुस्लमान थे!
ऐसा इतिहास अगर देश के लिए बलिदान किसी संघी ने दिया होता तो अब तक सैकड़ों शहरों और रेलवे स्टेशनों का नाम उसके नाम पर हो गया होता!
लेकिन क्या उनके नाम पर कुछ हुआ ?
नहीं ना!
इसीलिए तो कह रहा हूँ कि उस समय अंग्रेजों से मिल जाना था !
अगर बहादुरशाह ज़फर ऐसा करते तो ना उन्हें क़ैद मिलती ना ही कैदखाने में मौत मिलती!
और ना ही यह ग़म लिखते जो उन्होंने रंगून के क़ैदखाने में लिखा था!
वह यह है!
लगता नहीं है जी मेरा,
उजड़े दयार में!
किस की बनी है,
आलम-ए-नापायदार में!
बुलबुल को बागबां से,
न सय्याद से गिला!
किस्मत में क़ैद लिखी थी,
फसल-ए-बहार में!
कह दो इन हसरतों से,
कहीं और जा बसें!
इतनी जगह कहाँ है,
दिल-ए-दाग़दार में!
एक शाख़ गुल पे बैठ के,
बुलबुल है शादमान!
कांटे बिछा दिए हैं,
दिल-ए-लाल-ए-ज़ार में!
उम्र-ए-दराज़ माँग के,
लाये थे चार दिन!
दो आरज़ू में कट गये,
दो इन्तेज़ार में!
दिन ज़िन्दगी के ख़त्म हुए,
शाम हो गई!
फैला के पांव सोएंगे,
कुंज-ए-मज़ार में!
कितना है बदनसीब “ज़फर”,
दफ़्न के लिए!
दो गज़ ज़मीन भी न मिली,
कू-ए-यार में”

मुग़ल लुटेरे थे ?
आईए देखते हैं कि इन लुटेरे मुग़लों ने देश को कैसे लूटा ?

मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब के वक़्त पूरे दुनिया की एक चौथाई जीडीपी सिर्फ हिंदुस्तान के पास थी। जो हैसियत आज अमेरिका की है उससे कहीं ज़्यादा उस वक़्त हिंदुस्तान की हैसियत पूरे दुनिया में थी।
अकबर के शासनकाल में हिंदुस्तान का घरेलू उत्पाद ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ के साम्राज्य से कई गुना बेहतर था. आर्थिक इतिहासकार एंगस मैडिसन के मुताबिक, मुगलकालीन भारत का प्रति व्यक्ति उत्पादन (per capita output) उस समय के इंग्लैंड और फ्रांस से बेहतर थी।
शाहजहाँ के वक़्त में हिंदुस्तान का आर्किटेक्चर पूरे दुनिया में अपने चरम पर था उस वक़्त हिन्दुस्तान का आर्किटेक्चर उतना ही मशहूर था जितना आज का दुबई। सन 1640 ई. में एक शाहजहानी रुपए की कीमत आज के भारतीय रुपए से लगभग 500 गुना ज्यादा थी। जो आज भी पूरी दुनिया मे किसी देश की करंसी से दोगुना है
यूरोपियन यात्रियों के ऐतिहासिक दस्तावेज बताते हैं उस वक़्त हिंदुस्तान के भव्य मुग़ल सल्तनत की चकाचौंध को देखकर यूरोपियन लोगों की आंखें फटी की फटी रह जाती थी। उस वक़्त लखनऊ, दिल्ली और हैदराबाद को वो दर्जा हासिल था जो आज पेरिस और न्यूयॉर्क को है।
1947 के बाद सिर्फ हैदराबाद रियासत के निज़ाम के पास अपने आखरी वक़्त जबकि सब कुछ लूट चुका था तब भी उनके पास हिंदुस्तान की पूरे जीडीपी चार गुना दौलत थी।
अपनी इस दौलत को हैदराबाद के आखरी निज़ाम ने देश हित में युद्ध के समय में तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को सौंप दी थी। कई कुन्तल सोना हैदराबाद एयरपोर्ट से प्लेन में भर कर ले जाया गया।
ये बादशाह भी अजीब लुटेरे थे जो सारा माल दौलत शान ओ शौक़त से खड़ा वो लाल किला, ताजमहल सब छोड़कर इसी भारत की भूमी मे समा गए। आज उसी लाल किले पर खड़े हो उन्हें लुटेरा बताया जाता है उनके बनाई गयी इमारतों बसाए गए शहरों के नाम बदलने की होड़ लगी है। ये कायरता का निशानी है
इतिहास कभी नही बदलता चाहे कितना ही झूठ फैला कर देख लो
दरअसल लुटेरे तो यह हैं जो मुगलों के बनाए जगहों का नाम लूट कर अपने नाम पर रख रहे हैं।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

एडमिन चेहरे, तस्वीरें बदली जा सकती है निजाम नही बदले जा सकते। जी हां ! क़ज़ाक़िस्तान की अवाम ने क़ज़ाक़ सदर क़ासिम जमरात तौक़ीर” की...

READ MORE

साल के आखरी में चीन ने हम सब देशवासियों को एक ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण खबर का तोहफा दे दिया है

December 31, 2021 . by admin

नई दिल्ली संवाददाता अफजल शेख CHINA CHANGED THE NAME OF ARUNACHAL PARDESH TO #ZANGNAN AND OTHER 14 PLACES BASED ON HISTORY साल के अन्त मे...

READ MORE

वेक्सिन की बूस्टर खुराक लेने के बाद भी कैसे हुए ओमी क्रोन sank

December 21, 2021 . by admin

नई दिल्ली ओमिक्रॉन से बचाव के लिए वैक्सीन की बूस्टर यानी अतिरिक्त खुराक को अहम विकल्प माना जा रहा है। लेकिन दिल्ली में ऐसे भी...

READ MORE

TWEETS