महाराष्ट्र में सत्ता की जंग में मुंबई पुलिस कमिश्नर को लेकर बढ़ा सस्पेंस, कौन बनेगा अगला पुलिस कमिश्नर?

संवाददाता
यासीन कुरेशी

सत्ता की लड़ाई में सीपी पर बढ़ा सस्पेंस
मुंबई का अगला पुलिस कमिश्नर कौन?

मुंबई:- महाराष्ट्र में इन दिनों सत्ता की लड़ाई चल रही है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वर्तमान सरकार बनी रहेगी या कुछ दिनों में राज्य में नई सरकार बनेगी। इस बीच 30 जून को मुंबई सीपी संजय पांडेय रिटायर हो रहे हैं। जबकि मुंबई सीपी का फैसला राज्य का मुख्यमंत्री तय करता है। सीपी बनने के लिए वरिष्ठता तो अहम है ही, लेकिन मुख्यमंत्री की पसंद भी बहुत मायने रखती है।

चूंकि वर्तमान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का पूरा फोकस अपनी सरकार बचाने को लेकर है, इसलिए सवाल उठ रहा है कि क्या वर्तमान सरकार मुंबई के नए सीपी को लेकर कोई फैसला कर पाएगी या संजय पांडेय के रिटायर होने के बाद 30 जून को किसी वरिष्ठ जॉइंट सीपी को कुछ दिनों के लिए मुंबई सीपी का अतिरिक्त कार्यभार देगी? विश्वास नांगरे पाटील और राजवर्धन सिन्हा मुंबई के सभी जॉइंट सीपी में वरिष्ठ हैं।

अभी महाराष्ट्र में डीजी रैंक की आठ पोस्ट हैं। 30 जून को संजय पांडेय के साथ परमबीर सिंह भी रिटायर हो रहे हैं। वेंकटेशम भी कुछ दिनों पहले रिटायर हो चुके हैं। रजनीश सेठ के डीजीपी बनने के बाद एसीबी चीफ की पोस्ट खाली है। एसीबी चीफ की पोस्ट भी डीजी रैंक की होती है। यानी आने वाले दिनों में चार अडिशनल डीजी को डीजी रैंक में प्रमोशन मिलना है। इनमें एक नाम ठाणे के पुलिस कमिश्नर जयजीत सिंह का भी है उनका भी आनेवाले नजदीकी तारीख में थाने शहर पुलिस से प्रमोशन या तबादला होना तय माना जा रहा है। डॉक्टर भूषण उपाध्याय, संदीप बिश्नोई, रजनीश सेठ और विवेक फणसलकर पहले से डीजी रैंक में है।

इसलिए कायदे से किसी सरकार को इन्हीं आठ डीजी रैंक के अधिकारियों में से मुंबई सीपी का फैसला करना जरूरी है, लेकिन पुलिस और सरकार के सिस्टम के एक जानकार ने एनबीटी से कहा कि संभव है, मीरा-भाईंदर-वसई-विरार के वर्तमान सीपी सदानंद दाते के नाम पर भी वर्तमान सरकार विचार कर सकती है।

इस जानकार के अनुसार, मुंबई के वर्तमान सीपी की पोस्ट भले ही डीजी रैंक की हो, लेकिन अतीत में ज्यादातर अडिशनल डीजी ही मुंबई सीपी बनाए गए हैं। राकेश मारिया भी अडिशनल डीजी रैंक में मुंबई सीपी बने थे। जब उनका तबादला हुआ, तब डीजी रैंक के अहमद जावेद को मुंबई सीपी बनाया गया। तब से मुंबई सीपी डीजी रैंक का अधिकारी है।

एक अधिकारी के अनुसार, हो सकता है, वर्तमान सरकार किसी वरिष्ठ जॉइंट सीपी को कुछ दिनों के लिए मुंबई सीपी का अतिरिक्त कार्यभार न सौंपे और आठ डीजी रैंक के अधिकारियों में से एक को मुंबई सीपी 30 जून को ही बना दे। लेकिन उसमें एक खतरा है। 30 जून को यदि कोई नई सरकार बनी, तो हो सकता है, वह कुछ दिनों बाद पुराने सीपी को हटाकर अपने हिसाब से अपना पसंदीदा नया सीपी बनाए। लेकिन यदि सदानंद दाते को 30 जून को मुंबई सीपी बनाया गया, तो कोई भी सरकार आए या जाए, वह नई सरकार दाते के तत्काल ट्रांसफर के बारे में सोचेगी भी नहीं।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

सुशील कुमार पाण्डेय महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु अंतिम संस्कार में दुनियाभर के करीब 500 विश्वनेता होने वाले...

READ MORE

विश्व बैंक कोई सरकारी बैंक नही पर इस बैंक के कुल कितने मालिक है? जानिए

June 21, 2022 . by admin

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

TWEETS