मंत्री जी  पी नार्थ मनपा में रिश्वत खोरी है बेलगाम, तो क्यों ना चिरकुट और फर्जी ठेकेदार सदा कांटत है चांदी ?

Screenshot_2020-09-22-16-37-13-09

रिपोर्टर;-

बीते एक महीने पूर्व से शिकायत करते चिल्ला रहे है कि पी नार्थ मनपा प्रशासन कथित ही बेसुध और लापरवाह है ।
बताया जाता है कि जय हिन्द सोसायटी में साबरिया मस्जिद के बगल वाले, 16 फिट रोड, गेट नंबर 6, वार्ड न 33, मालाड वेस्ट,मालवणी मुंबई 95,स्थित पर अनिल विश्वकर्मा नामक ठेकेदार द्वारा ग्रीन ज़ोन वाली एग्रीकल्चरकी ज़मीन वाली प्लॉट पर 1+3का अवैध निर्माण डंके की चोंट पर पी नार्थ मनपा के कुछ खास जिम्मेदार मनपा अधिकारियों की सांठ गांठ से किये जा रहा है।

गौर हो कि इस ठेकेदार के पास इमारत के बांध काम के किसी तरह के भी ज़रूरी और कानूनी सरकारी मान्यताप्राप्त लाइसेंस तथा परमिशन लेटर मौजूद नहीं है।
जैसे कि स्लम क्षेत्र में बड़ी बड़ी तथा ,G+1 और G+4 अर्थात् लगभग 35फिट से लेकर 40फिट से भी ऊंची, और सीमेंट कांक्रीट की पक्की बिल्डिंग नुमा इमारतें खड़ी करने के तथा बेलगाम अवैध निर्माण खड़े करने के किसी भी छुटभैय्ए ठेकेदारों के लिए कोई परमिशन नहीं है।
फिर भी स्थानीय वार्ड न 33के नगरसेवक ,पी उत्तर मनपा के सहय्यक कनिष्ठ अभियंता शर्मा समेत कुछ जिम्मेदार मनपा अधिकारियों को मुंह मांगी रिश्वत देकर यहां ये थुक लगाव बेलगाम अवैध ऊंचा और बिल्डिंग नुमा 3 महले से भी ऊंचा नवनिर्माण बेखौफ शुरू है?

इस अवैध निर्माण की लिखित शिकायत स्थानीय मनपा कार्यालय से लेकर और मौखिक शिकायत मनपा मुख्य कंट्रोल पर दिनांक 17.08.2020को दी गई है।
जिसका शिकायत नंबर 0722513878 इस तरह है।
पता चला है कि अवैध निर्माण की शिकायत के अनुसार सिर्फ फर्जी तौर से मात्र दिखावे के लिए पी नार्थ मनपा द्वारा तोड़ू दस्ते को भेज अवैध इमारतं ढांचे से कुछ ही हिस्से पर हथौड़ा चला कर 10से 20 ईंटें गिरा दी गई है।
और अपना दामन बचा कर तोड़ू दस्ता चलते बना। तो दुबारा कभी लौट कर कार्रवाई करने नहीं आया।
आया भी होगा तो बाकी ठेकेदार से बची रिश्वत एट्ठने के लिए!

सबसे बड़ी ध्यान देनेवाली बात तो ये है कि इस झूठ मूठ की फर्जी कार्रवाई के बाद उक्त मनपा के कहने पर ही इसी अवैध और अबतक 3 माले के भी ऊपर तक के बांधकम को पुर अंजाम देकर ठेकेदार द्वारा एडी चोटी का जोर लगाया गया है।
जो अब पूरा भी हो गया है।
तस्वीर में साफ दिख रहा है कि उक्त इमारत को नीचे से लेकर ऊपर तक चारो तरफ से बड़े प्लास्टिकऔर बारदान से किस् तरह ढंक दिया गया है।
अंदर से फटाफट टाईल्स भी फिट किए जा रहे है।
अवैध निर्माण को तो रोक पाना पी नार्थ मनपा प्रशासन के बस में नहीं रहा है।

क्योंकि पहले ही से ये मनपा प्रशासन रिश्वतखोरी में सब से तेज और पहले नंबर पर बदनाम है।
इस लिए मलाड मालवणी इलाका में हर साल की तरह ही इस बार भी चारो ओर चर्चा है कि सेंकड़ों अवैध निर्माण कार्यों की बेखौफ भरमार और बाढ़सी आगयी है।
यहां उक्त बिएमसी को मुंह मांगी रिश्वत दो फिर देखना कि चाहे कितने भी ऊंचे गैर कानूनी अवैध निर्माण भले क्यों न हो उसे निपट ने में कोई भी चिरकुट ठेकेदारों के लिए कुछ भी मुश्किल भरा काम नहीं या रोक थाम की कोई बात ही नहीं है।

सुनने में आया है कि रिश्वत खोरी में बहुचर्चित रहे पी नार्थ मनपा प्रशासन के सहायक कनिष्ठ अभियंता शर्मा यहां अपने कुछ गुर्गों को पाले हुए है ।
उनके द्वाराअवैध वसूली करवाकर अवैध निर्माण के कामों को बढ़ावा देने की एक खासी भूमिका निभाई जा रही है ।
उसी के द्वारा ठेकेदार अनिल विश्वकर्मा से भी जमकर रिश्वत लेकर मौजूदा पतेपर धड़ल्ले से तीन माले के ऊपर तक के अवैध निर्माण को पूरा करने के ग्रीन सिग्नल दिए गए है।

बताया जा रहा कि रिश्वतखोर अभियंता शर्मा द्वारा ठेकेदार अनिल को
तेज रफ्तार से अंदर से काम को पूरी तरह पूरा कर लेने की भी सलाह दी गई है।
इस लिए मौजूदा ठेकेदार  मनपा के रिश्वतखोर बाबुओं के इशारे की पैरवी कर चोरी चोरी, चुपके चुपके से मौजूदा अवैध निर्माण ढांचा 1000%पूरा करने में सफल रहा है।
सूत्रों की माने तो बड़े ही ताज्जुब की बात तो ये है कि एक महीना भर गुजर गया।

परंतु स्थानीय बीएमसी की कार्रवाई तो कतई हो न सकी, बल्कि उसकी छत्र छाया में फल फूल रहा मौजूदा अवैध कंस्ट्रक्शन का ढांचा मात्र सौ फीसद पूर्ण हो गया है।
ये यहां के कुछ चिरकुट ,फर्जी बिल्डरों ठेकेदारों के लिए किसी बड़े खुशिंकी सौगात से क्या कम है?
ध्यान देने जैसी बात है कि कम समय में ज़्यादा मुनाफा कमाने हेतु अवैध निर्माण बनाते वक्त घटिया रो मटेरियल इस्तेमाल किया जाता है ।

फिर बे लगाम बनाई जा रही ऊंची इमारतें आंधी तूफान और मूसलाधार बारिश का सामना तक कर पाने में नाकाम रहती है।
ऐसे में यकबयक कई अवैध निर्माण गिर जाते है।
जिसके कारण कई लोग नाहक ही मौत के मुंह समा जाते है और कईयो के जानो माल का नुक़सान भी हो जाता है ।
ऐसी पिछले दफा भी मलाड मालवणी ने घटनाये हो चुकी है ।

कुछ इमारत के गिर जाने से कुछ लोगों की मौत हो चुकी है।
क्या इसके बाद भी इस अवैध निर्माण पर स्थानीय मनपा प्रशासन सख्त कार्रवाई कर पाएगा  ?
हमारी अपील है सहाय्यक पी नार्थ मनपा आयुक्त, ब्रिहन मुम्बई मनपा आयुक्त , महाराष्ट्र के P W D मंत्री ,तथा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री जी से कि इस अवैध निर्माण के खिलाफ तुरन्त ही संज्ञा ले।

जिस तरह हाल ही में मुम्बई मनपा द्वारा अभिनेत्री कंगना राणावत के दफ्तर को अवैध बताकर कानून के तहत बुलडोजर चलाया गया और तोड़क कार्रवाई को अंजाम दिया गया था ।

क्या ठीक उसी कानून को अपनाते हुए हमारे दर्शाए गए इस गैर कानूनी भव्य ढांचे पर भी मनपा द्वारा हथौड़ा चला कर उसे ध्वस्त कराया जाएगा ?या फिर उसे संरक्षण दिए जाएंगे ?

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

जयपुर :-रिपोर्टर. राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान वरिष्ठ अधिस्वीकृत पत्रकार पेंशन (सम्मान) योजना के नियमों में संशोधन को मंजूरी प्रदान की है। इस...

READ MORE

बीजेपी सरकार की मंत्री उषा ठाकुर ने ये कैसा विवादित बयान दिया जिस के कारण मुस्लिम समुदाय में काफी आक्रोश व्याप्त है ?

October 21, 2020 . by admin

रिपोर्टर:- भाजपा सरकार की मंत्री उषा ठाकुर के मदरसों को लेकर दिए विवादित बयान को लेकर मुस्लिम समाजजनों ने राज्यपाल के नाम कमिश्नर को दिया...

READ MORE

बीजेपी से क्यों है नाराज़ वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे? क्या ये तय है कि ओह बीजेपी को करेंगे राम राम?

October 21, 2020 . by admin

रिपोर्टर:- सीनियर नेता एकनाथ खड़से के इस्तीफे की वजह से बीजेपी को लगा बड़ा झटका। महाराष्ट्र में बीजेपी के बड़े नेता एकनाथ खड़से ने इस्तीफा...

READ MORE

TWEETS