जब एक छिपकली ऐसे कर सकती है, तो हम क्यों नहीं ?

images (13)

रिपोर्टर:-

यह जापान में घटी, एक सच्ची घटना है।

अपने मकान का नवीनीकरण करने के लिये, एक जापानी अपने मकान की दीवारों को तोड़ रहा था। जापान में लकड़ी की दीवारों के बीच ख़ाली जगह होती हैं, यानी दीवारें अंदर से पोली होती हैं।

जब वह लकड़ी की दीवारों को चीर-तोड़ रहा था, तभी उसने देखा कि दीवार के अंदर की तरफ लकड़ी पर एक छिपकली, बाहर से उसके पैर पर ठुकी कील के कारण, एक ही जगह पर जमी पड़ी है।

जब उसने यह दृश्य देखा तो उसे बहुत दया आई पर साथ ही वह जिज्ञासु भी हो गया।
जब उसने आगे जाँच की तो पाया कि वह कील तो उसके मकान बनते समय पाँच साल पहले ठोंकी गई थी।
एक छिपकली इस स्थिति में पाँच साल तक जीवित थी।
दीवार के अँधेरे पार्टीशन के बीच, बिना हिले-डुले? यह अविश्वसनीय, असंभव और चौंका देने वाला था।

उसकी समझ से यह परे था कि एक छिपकली, जिसका एक पैर, एक ही स्थान पर पिछले पाँच साल से कील के कारण चिपका हुआ था और जो अपनी जगह से एक इंच भी न हिली थी, वह कैसे जीवित रह सकती है?
अब उसने यह देखने के लिये कि वह छिपकली अब तक क्या करती रही है और कैसे अपने भोजन की जरुरत को पूरा करती रही है, अपना काम रोक दिया।

थोड़ी ही देर बाद, पता नहीं कहाँ से, एक दूसरी छिपकली प्रकट हुई, वह अपने मुँह में भोजन दबाये हुये थी – उस फँसी हुई छिपकली को खिलाने के लिये! उफ़्फ़! वह सन्न रह गया! यह दृश्य उसके दिल को अंदर तक छू गया।
एक छिपकली, जिसका एक पैर कील से ठुका हुआ था, को, एक दूसरी छिपकली पिछले पाँच साल से भोजन खिला रही थी!
अद्भुत! दूसरी छिपकली ने अपने साथी के बचने की उम्मीद नहीं छोड़ी थी, वह पहली छिपकली को पिछले पाँच साल से भोजन करवा रही थी।।

अजीब है, एक छोटा-सा जंतु तो यह कर सकता है, पर हम मनुष्य जैसे प्राणी, जिसे बुद्धि में सर्वश्रेष्ठ होने का आशीर्वाद मिला हुआ है, नहीं कर सकता।
कृपया अपने प्रिय लोगों को कभी न छोड़ें।
लोगों को उनकी तकलीफ़ के समय अपनी पीठ न दिखायें।
अपने आप को महाज्ञानी या सर्वश्रेष्ठ समझने की भूल न करें।

आज आप सौभाग्यशाली हो सकते हैं पर कल तो अनिश्चित ही है और कल चीज़ें बदल भी सकती हैं।
कुदरत ने हमारी अंगुलियों के बीच शायद जगह भी इसीलिये दी है ताकि हम किसी दूसरे का हाथ थाम सकें!
आप आज किसी का साथ दीजिये, कल कोई-न-कोई दूसरा आपको साथ दे देगा!
धर्म चाहे जो भी हो बस अच्छे इंसान बनो, मालिक हमारे कर्म देखता है धर्म नही!

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

नई दिल्ली :-  देश का सबसे बड़ा विवादित मसला अयोध्या ,राम जन्मभूमि-बाबरी मस्ज़िद का फैसला अगले महीने की 17 तारीख तक आ सकता हैं। सुप्रीम...

READ MORE

आर्थिक सुस्ती पर RBI के पूर्व गवर्नर आर राजन ने दो टूक में क्या कुछ कह दिया ? जाने !

October 13, 2019 . by admin

रिपोर्टर:- आर्थिक सुस्‍ती पर बोले रघुराम राजन- संकट गंभीर, एक ही व्यक्ति का निर्णय लेना घातक आर्थिक मोर्चे के हर ताजा आंकड़े भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के...

READ MORE

दिल्ली मे किस कदर बुलंद है झपटमारों का आतंक ?पीएम मोदी की भतीजी को भी नही बख्शा !

October 13, 2019 . by admin

रिपोर्टर:- दिल्ली में दिनदहाड़े प्रधानमंत्री के भतीजी का पर्स लूटकर अपराधी हुए फरार नई दिल्ली में सक्रिय अपराधियों के हौंसले इतने बुलंद हैं कि उन्होने...

READ MORE

TWEETS