किसकी बदौलत दमुआ में रंगे हाथों पकड़े गए आईपीएल क्रिकेट के सट्टेबाज?

दमुआ
संवाददाता

22/09/2021 शाम लगभग 8:00 बजे दमुआ माइनस में नामी-गिरामी सट्टा खाई बाज कई बार जो कि पुराना सट्टा किंग कहलाता है ,को माइनस ग्राउंड मे क्रिकेट का सट्टा जोरों पर लग रहा था।
मुखबिर द्वारा मिली खबर पर दमुआ थाना प्रभारी द्वारा एवं थाना स्टॉप द्वारा ताबड़तोड़ रेड की गई।
जिसमें 26800 रुपए कैश जप्त हुए ।
इन लोगों पर धारा 4 का सट्टा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई अभी कॉल डिटेल के आधार पर और भी बड़े-बड़े नाम सामने आने की उम्मीद बनी है ।
इसके पहले भी इस सट्टा खाईबाज़ पर सट्टे की कार्रवाही दो तीन बार और हो चुकी है ,इस बार रंगे हाथों क्रिकेट का सट्टा लगाते हुए पकड़े गए।
आरोपी राजबहादुर शंकर पिता भगवती प्रसाद सक्सेना उम्र 35 साल, माइनस दमुआ. ,मोहन पिता लक्ष्मण चौहान, निवासी पुराना दमुआ को रंगे हाथो आईपीएल का सट्टा खिलाते हुए माइनस ग्राऊंड मे टी आई धर्मेंद्र कुशराम उप निरीक्षक नारायण सिंह बघेल आरक्षक सागर. लखन. रवि. भगवान एवं सोनू ने रंगे हाथ पकड़ा।
जप्ती मे 2 anrioid मोबाइल 1 कीपेड मोबाइल एवं 26800 रूपए की केश मुद्दे माल की जप्ती हुई। इसमें अभी और भी नामो के खुलासे होने की सम्भावना है।
उन लोगों पर सट्टा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। इसमें कॉल डिटेल के आधार पर और भी कुछ नाम सामने आने की संभावना है।
जो नामी गिरामी लोग है उनकी भी इस क्रिकेट के सट्टे में बड़े-बड़े लोगों का नाम सामने आने की संभावना बढ़ी है।
जिसमें कुछ शासकीय कर्मचारी भी हो सकते हैं ऐसी संभावना हो सकती है।
दमुआ टी आई धर्मेंद्र कुशराम के मुखबरी तंत्र मजबूत होने के कारण इतनी बड़ी सफलता पुलिस को मिली।
वर्ना मुखबिर के बिना ये कामयाबी मिलना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन थी।

साभार:संतोष विश्वकर्मा,
मनोज डोंगरे,तकीम अहमद,मोंटू खान,जितेंद्र चौकसे

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

एडमिन अमेरिका के साथ गहराते रिश्‍ते के बीच बाइडन प्रशासन ने एक बार फिर से भारत को रूसी रक्षा प्रणाली एस-400 को लेकर कड़ी चेतावनी...

READ MORE

क्या अमेरिका दिवालिया होने की कागरपार पहुंच गया है? क्या है पूरा मामला ?

October 7, 2021 . by admin

एडमिन अगर अमेरिकी कांग्रेस ने पहले से लिये गये लगभग 3-ट्रैलियन डॉलर पर इस साल का बक़ाया लगभग 378-अरब डॉलर का ब्याज़ अदा नहीं किया...

READ MORE

एक थे फिनलैंड के एक बहाद्दूर योद्धा फौजी सिमो हयहा, जिन्हे सोवियत की सेना व्हाइट डेथ यानी सफेद मौत के नाम से जानती थी

October 6, 2021 . by admin

एडमिन क्या कोई एक फौजी इतना तगड़ा योद्धा हो सकता है कि वो अपने देश की आर्मी से हज़ारों गुना ताकतवर आर्मी को अकेले रोक...

READ MORE

TWEETS