उद्धव जी ऐसे लगता है आपके रहते अबकी बार लॉक डाउन अनलॉक 2.0 मिशन मुंबईकरों को मार ही डालेगा ?

images (3)

रिपोर्टर:-

जैसे कि कोरोना महामारी की चपेट में पूरा देश परेशान है।
इसे रोकथाम लगाने में सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और उनके सहयोगी एडी चोटि की ताकत लगये हुए दिन रात प्रयास कर रहे है ।

अभी लॉक डाउन के तीन महीने पार हो चुके है।
श्रीमान उद्धव ठाकरे जी आप भी जानते है कि आपके आदेशों का पालन करने में मुम्बई तथा समस्त महाराष्ट्र की जनता आप के साथ कंधे से कंधा लगाए खड़ी है।
आप हर माह लॉक डाउन के नियम औऱ जो भी आदेश देते है उसका सिर्रे से पालन हो रहा है।

एक तो कोरोना वायरस और ऊपर से बेमियादी लॉक डाउन की वजह लोग घर मे ही कैद रहे ।
हज़ारों लोग  घर की बिबता और कोरोना महामारी की दहशत से घरो में बैठे बैठे बीमार चल रहे है। कई लोग जान गवा बैठे।
इस लॉक डाउन की वजह से न जाने कितने अनगिनत लोगो की नोकरीया और रोज़ी रोज़गार खत्म हो गए है।
आज भी हज़ारो परिवार में भुखमरी छा गयी है।कितनो का बद से बदत्तर हाल है । बेहिसाब परिवार बेसहारा हो गए है।

अभी आपके द्वारा अनलॉक 1.0 में थोड़ी सी राहत सी मिलने की उम्मीद लग रही थी। कुछ रोज़ी रोज़गार खुलने के अवसर दिखने लगे थे।
कि आप के द्वारा अचानक ही 1 जुलाई से 31 जुलाई तक अनलॉक 2 .0 का दौर शुरू हुआ है। फिर एक बार लॉक डाउन का आदेश दिया गया है।
जिसमे बेतहाशा पीड़ित लोगों के काम धाम,रोजी रोज़गार की तलाश जो थी वह सब आशाएं खत्म होने की आशंका है।
क्योंकी अभी अभी आपके ट्रैफिक पुलिस प्रशाशन ने तो तमाम मुंबईकरों पर और एक नया सितम ढाना शुरू किया है।

एक किलो मीटर या दो किलो मीटर की दूरी से आगे बढ़ना भी किसी वाहनों को दुश्वार कर डाला है ।
लोगो के पास एक तो पैसों की कमी है ।रोज़ी रोज़गार भी नही है ।
उनके परिवार की संगीन चिंताएं सता रही है ।
पाई पाई को तरस रहे है पीड़ित लोगो के पास काम करने जैसे कोई साधन और उपाय नही बचे है।
इस कथित मुसीबत से छुटकारा पाने के चक्कर में पीडत लोगअब अपने घर से बाहर निकलकर रोज़ी रोटी की तलाश में जुटे थे।

कोई के पास साइकिल , कोई पैदल कोई बाइक के सहारे। तो कोई थ्री और फौर व्हीलर से अपना जीवन यापन बिताने की फिराक में रोड पर आना चाहते है।
पता चला है कि उधर आपकी ट्रैफिक पुलिस घर से बाहर निकलने वाले वाहन धारको पर गिद्ध नज़र बनाये है।
मुम्बई और उसके उप नगरो की सरहद और सिग्नल पर नाकाबन्दी लगाए सितम बरपा रही है।
खास कर टू व्हीलर बाइकर पर संवार ड्राइवर के पीछे बैठे डबल सीटर को देख उसे रोक के बे बुनियाद चालान काँटे जा रही है।
उनकी गाड़िया ज़ब्त किये जारही है।
कोर्ट के नोटिस थमाकर परेशान किया जा रहा है। क्या है ये सब?
जहां देखो उधर हाय तोबा मच गई है।
उद्धव जी आपके रहते ये सब अचानक ही एक बा एक पुलिसिया कहर का सैलाब , पाबंदिया, अन्याय और ज़्यादती क्यों बरपा हो रही रही?

उद्धव जी आप को इस बारे में ज़रूर सोंच समझके कदम उठाने की जरूरत है।
लम्बे दिनों के लॉक डाउन की वजह से समस्त मुम्बईकर, महाराष्ट्र की जनता बिल्कुल बेहालऔर गरीबी से बाज़ आ चुकी है। हर तरह से बर्बाद हो गई है।
ऊपर से ट्रैफिक पुलिस की मार। जो गरीबो पर अत्याचार बरपा रही है ।कानूनी शिकंजे में फांस कर मजबुर करने पर तुली है?
महारष्ट्र मुम्बई की गरीब जनता पर ये तो सरासर ही नाइंसाफी और अन्याय हो रहा है।

साहब जी इस तानशाही ट्रैफिक कानून को और पाबंदी को खत्म किया जाये।
आप भी जानते है कि मुंबईकर इतने बेवकुफ नही है बहुत ही समझदार और सुलझे हुए लोग है। उन्हें सबसे बेहतर और अच्छे से समझ भी है कि कोरोना महामारी से किस तरह मुकाबला करना है ? सोषल डिस्टनसिंग का कैसे पालन करना है, मास का इस्तेमाल कर अपनी जान ,और ज़िंदगी कैसे बचानी है?

बतादेंकि अचानक ही ट्रैफिक पुलिस के सख्त कानून की पाबंदिया लगाने से कोई कोरोना महामारी खत्म होनेवाली नही है तथा ये महामारी रुकने वाली भी नही है।
उद्धव जी महारष्ट्र की समस्त जनता ने आपकी बहुत ही सराहना करते हुए आपको पसंद भी किया है ।
इस लिए आप महारष्ट्र के मुखयमंत्रि बने है।
समस्त मुम्बईकर्स के दिलोमे आपकी बड़ी इज़्ज़त है।
बहरहाल आपकी वजह से बड़ी उम्मीदें जगी है।उन्हें आप मिट ने न दे।
एक अर्ज़ है हमारी आप से , ट्रैफिक पुलिस के कड़े नियम लगा कर बर्बाद हुए पीड़ित लोगों को और भी बर्बाद न करो साहब जी!

हो सके तो इस लॉक डाउन में पीड़ित लोगों का खयाल कर लोगों पर अत्याचार करना छोड़ दे। पहले ही बर्बाद और खाने खाने को मोहोतज हैउन्हें और भी बर्बाद होने जैसे कानून का इस्तेमाल न करे।

महोदय जी पता करिये आप की ट्रैफिक पुलिस  वाहनधारको के साथ ज़्यादती कर रही है।
अत्याचार करना और कइ पीडित लोगों से खिलवाड़ करना ठीक नही है।
डबल सीटर बाइकर्स देख उनपर बेलगाम जुर्माना लगाना छोड़ दे।
उनकी गाड़ियो की पकड़ा पकड़ी करना,गाड़िया हस्तगत करना उनपे चार्जेज लगाना पुलीसिया रोब और धौंस जमाकर उनसे जबरन वसूली वगैरह करना बन्द कर दे, ।
हम जानते है कि जो लोग जान बुझकर ट्रेफिक नियमों का उल्लंघन करते है ऐसे लोगों पर जैसे भी हो जुर्माना ज़रूरी है।

बाकी के जो लोग है जिन में पत्रकार ग्रुप भी शामिल है।
उन्हें न्यूज़ कवरेज के लिए बाइक पर एक दो किलो मीटर नही बल्कि चारो दिशाएं लम्बी दूरी डबल सीट इधर से उधर दिन रात भटकना पड़ता है,
इनके अलावा कुछ लोगों को उनके निजी, ज़रूरी काम काज और रोज़ी रोटी के फिराक में वाहनों द्वारा बाहर निकलना ज़रूरी है।.
सीधा साधा कम खर्चीला वाहन बाइक ही तो है न?₹ डबल सीटर पाया गया हो तो ऐसे लोगों पर कमसे कम रहम करे और उन्हें बख्श दे।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

मुंबई, दि. १२ : बृहन्मुंबई महानगरपालिकेने कोरोनाची परिस्थिती लक्षात घेता अभय योजनेची मुदत ३१ डिसेंबर २०२० पर्यंत वाढविण्याचा निर्णय घेतला आहे. सध्या कोरोना संकटामुळे अडचणीत...

READ MORE

कांग्रेस के तेज तर्रार कर्मठ नेता प्रवक्ता राजीव त्यागी नहीं रहे , हार्ट अटैक ने लि जान !क्या है पूरी मी ? जाने !

August 12, 2020 . by admin

नई दिल्ली: कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन हो गया है, हार्ट अटैक की वजह से उनका निधन हो गया है। उनकी पहचान कांग्रेस...

READ MORE

दुनिया में बलात्कार मारकाट अत्याचार हैवानियत, बढ़ती जा रही है सबकुछ देखकर भी  भगवान तुम इतने खामोश हो ,क्यों ?

August 12, 2020 . by admin

रिपोर्टर:- मुल्ला,पंडे,पुजारी चुप है। सेवादार और पादरी चुप है राम,रहीम,गुरु,ईसा,मुरारी चुप है । कैसी विडंबना है भगवान ? तुम भी चुप हो । हम भी...

READ MORE

TWEETS