उत्साह के साथ एहतियाती डोज लगवाने पहुंचे बुजुर्ग

आगरा
स्थानीय संवाददाता:दानिश उमरी

जनपद में फ्रंटलाइन व हेल्थ केयर वर्कर के साथ बीमारी से ग्रसित बुजुर्गों को प्री कॉशन डोज लगना शुरू। पहले दिन 1403 लोगों ने लगवाई एहतियाती डोज

आगरा।
कोरोना से बचाव के लिए जनपद में फ्रंटलाइन वर्कर, स्वास्थ्य कर्मियों के साथ पहले से गंभीर बीमारी से ग्रसित 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को एहतियाती डोज (प्रीकाशन डोज) लगाने का काम सोमवार से शुरू हो गया।
जनपद के टीकाकरण केंद्रों पर उत्साह के साथ लोग एहतियाती डोज लगवाने पहुंचे।

सोमवार को जनपद में कुल 1403 लोगों ने एहतियाती डोज लगवाई।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अरुण श्रीवास्तव ने बताया कि सरकार के निर्देश के बाद जनपद में हेल्थहकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और को-मॉर्बिडिटीज से ग्रसित 60 साल से ज्याेदा उम्र के लोगों को एहतियाती डोज दी जा रही है।
इसके लिए जनपद के सभी टीकाकरण केंद्रों पर यह डोज लगाई जा रही है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी (डीआईओ) डॉ. संजीव वर्मन ने बताया कि जिन लोगों को टीके की दूसरी डोज लगे हुए नौ महीने हो चुके हैं, ऐसे हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष से अधिक उम्र के गंभीर रोगों से ग्रसित लोग अपने एहतियाती डोज लगवा सकते हैं। इसे जनपद के किसी भी टीकाकरण केंद्र पर जाकर लगवाया जा सकता है।
डीआईओ ने बताया कि एहतियाती डोज लगवाने के लिए कोविन एप पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
ईएसआई हॉस्पिटल में एहतियाती डोज लगवाने के बाद फ्रंटलाइन वर्कर रामवीर सिंह ने बताया कि उन्होंने कोविड टीकाकरण शुरूआत में ही करा लिया था।

दोनों डोज समय से लगवाने के बाद अब मुझे प्रिकॉशनरी डोज लगवाने का मौका मिला है तो मैंने कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा के लिए प्रिकॉशनरी डोज लगवा ली है।
80 वर्षीय देवेंद्र कुमारी ने बताया कि उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए एहतियाती टीका लगवा लिया है।
इससे पहले उन्होंने अपने दोनों डोज लगवा ली थीं। उन्होंने सरकार के इस फैसले को अच्छा कदम बताया।
शांता कुमारी ने कहा कि बुजुर्गों के लिए प्री कॉशन डोज लगवाना अच्छी पहल हैं। मैंने भी इसे लगवा लिया है। डॉ. अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि वह सेवानिवृत्त हो चुके हैं।
कोरोना से सुरक्षा के लिए उन्होंने दोनों डोज लगवाने के बाद अब तीसरी डोज लगवा ली है। इससे उनका कोरोना से बचाव हो सकेगा।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS