आर टी आई का अधिकार अधिनियम २००५,निम्न लिखित तथ्यों का ज़रूर ध्यान रखे वर्ना

एडमिन

सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत हम सूचना प्राप्त करने के लिए आवेदन देते हैं और हमें सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत जन सूचना अधिकारी (केंद्रीय या लोक ) हमें सूचना उपलब्ध कराते हैं । (जो कि संसद द्वारा पारित 2005 में नागरिकों के लिए बनाया गया है ।)
1) किसी भी राज्य को इसके विरुद्ध कानून बनाने का अधिकार प्राप्त नहीं है जिन्होंने भी इनके विरुद्ध कानून बनाए हैं वह सभी गलत है ।
2) आरटीआई अधिनियम 2005 की धारा 27, 28, 29 और 30 के तहत अमान्य है ।
3) आरटीआई अधिनियम 2005 की धारा 21 के तहत अगर जन सूचना अधिकारी (केंद्रीय या लोक ) द्वारा सद्भावना पूर्ण सूचना नहीं देता है तो आईपीसी 1860 की धारा 52 के तहत अपराध है और जन सूचना अधिकारी अपने मूल पदों का दुरुपयोग करने के लिए अपराधी माने जाएँगे ।
मूल पदों के दुरुपयोग करने के लिए आईपीसी 1860 की धारा 166, 167 के तहत अपराधी माने जाएँगे ।
जिसका प्रचार प्रसार इन अधिकारियों द्वारा नहीं होने दिया ।
4) सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 4(3) और 4(4) के तहत लोक जन सूचना
अधिकारी का कर्तव्य होता है कि वह नागरिकों को अन्य माध्यमों से विज्ञापन जारी कर कार्यालयों का निरीक्षण करवाना जो कि जन सूचना अधिकारी नहीं करवाते हैं ।
सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 6(1) के तहत आवेदन देने पर निम्नलिखित तथ्यों को ध्यान में रखें :-
A) आवेदन देने की तिथि से 40 दिन बाद तक जन सूचना अधिकारी सूचना दे या नहीं दे प्रथम अपील करने का प्रावधान है । (आपत्ति का प्रावधान नहीं है या कोई पत्र देने का प्रावधान नहीं है ।)
B) सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 19(1) के तहत प्रथम अपीलीय प्राधिकार के समक्ष प्रथम अपील प्रस्तुत करने का प्रावधान है । (आपत्ति का प्रावधान नहीं है या कोई पत्र देने का प्रावधान नहीं है ।)
प्रथम अपील करने पर प्रथम अपीलीय अधिकारी द्वारा आरटीआई अधिनियम 2005 की धारा 7(6) के तहत सूचना के साथ मुफ्त दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे ।
C) सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 19(1) के तहत प्रथम अपीलीय प्राधिकार द्वारा 45 से 60 दिनो के भीतर में अगर सूचना उपलब्ध नहीं कराया जाता है तो उसके बाद द्वितीय अपील सूचना आयोग ( केंद्रीय सूचना आयोग, नई दिल्ली या संबंधित राज्य सूचना आयोग) में द्वितीय अपील करने का प्रावधान है। (आपत्ति का प्रावधान नहीं है या कोई पत्र देने का प्रावधान नहीं है ।)
D) सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 6(1) के तहत आवेदन करने के बाद प्रथम अपील और द्वितीय अपील करने का समय निर्धारित है
प्रथम अपील एवं द्वितीय अपील निर्धारित समय सीमा में करना अनिवार्य है ।
उपरोक्त तथ्यों को ध्यान में रखते हुए आप सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 6(1) के तहत लोक जन सूचना अधिकारी के समक्ष अपना आरटीआई आवेदन प्रस्तुत करें ।

तेजस सुरजुसे (9039915130)

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

एडमिन ब्रिटेन वह पहला देश है जिसने ‘मोल्नुपिराविर’ से कोरोना के उपचार को उपयुक्त माना है।  हालांकि अभी स्पष्ट नहीं है कि यह गोली कितनी जल्द उपलब्ध...

READ MORE

खाद्य पदार्थों की कमियों की वजह बनी अफगानिस्तान में भुखमरी जाने पूरी खबर?

November 3, 2021 . by admin

एडमिन अमरीका से तनातनी के बीच तालेबान ने डाॅलर को किया प्रतबंधित तालेबान ने अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी डाॅलर के प्रयोग न करने का आदेश जारी...

READ MORE

क्या अब रूस से S–400 डिफेन्स सिस्टम मिलते ही लगेगा भारत पर प्रतिबंध?

October 7, 2021 . by admin

एडमिन अमेरिका के साथ गहराते रिश्‍ते के बीच बाइडन प्रशासन ने एक बार फिर से भारत को रूसी रक्षा प्रणाली एस-400 को लेकर कड़ी चेतावनी...

READ MORE

TWEETS