अस्पतालों में OPD बंद इसके बावजूद इमरजेंसी में भीड़ नहीं ,तो फिर बीमारियों में इतनी कमी कैसे आ गयी?

images (83)

रिपोर्टर:-

माना, सड़कों पर गाड़ियां नहीं चल रही हैं।
इसलिए सड़क दुर्घटना नहीं हो रही है।
परन्तु कोई हार्ट अटैक, ब्रेन हेमरेज या हाइपरटेंशन जैसी समस्याएं भी नहीं आ रही हैं।
ऐसा कैसे हो गया की कहीं से कोई शिकायत नहीं आ रही है की किसी का इलाज नहीं हो रहा है?

दिल्ली के निगमबोध घाट पर प्रतिदिन आने वाले शवों की संख्या में 25-30 प्रतिशत की कमी आयी है।
दिल्ली छोड़िये साहब बनारस का हाल देखे हरिश्चन्द्र घाट पर औसतन प्रतिदिन 80 से 100 शव आते थे आज करोना के माहौल मे प्रतिदिन 20 या 25 डेड बॉडी आ रही हैं।
इसी तरह मणिकरणिका घाट पर भी यही हालात वहॉ के डोम राज परिवार भी आश्चर्य चकित होते हुए बताते है कि ये सन्धि मौसम है (जाड़े से गर्मी मे जाना) इस समय हर साल डेड बॉडी मे बढ़ोत्तरी होती है?
परन्तु पता नही क्यो भारी कमी है डेड बाडी की जबकी केवल BHU से प्रतिदिन10 से 15 शव आते थे वो एक दम बन्द है ।

अस्पतालों में जो मरीज भर्ती हैं वो सब पहले के है नये मरीज की भर्ती नही हो रही तो वाकई मे ये आश्चर्य चकित करने वाला है।
कि सारी बीमारी गायब है क्या कोरोना वायरस ने सभी बिमारियों को मार दिया ?
नहीं. यह सवाल उठाता है मेडिकल पेशा के वाणिज्यीकरण का।
जहाँ कोई बीमारी नहीं भी हो वहां डॉक्टर उसे विकराल बना देते हैं।
कॉरर्पोरेट हॉस्पिटल के उद्दभव के बाद तो संकट और गहरा हो गया है।
मामूली सर्दी-खांसी में भी कई हज़ारों और शायद लाख का भी बिल बन जाना कोई हैरतअंगेज़ बात नहीं रह गयी है।

अभी अधिकतर अस्पतालों में बेड खाली पड़े हैं।हम डॉक्टरों की सेवा की अहमियत को कम करने की कोशिश नहीं कर रहै है।

कोविद १९ में जो सेवा दे रहे हैं उन्हें नमन करते है।
लेकिन डर कुछ ज़्यादा ही हो गया है। बहुत सारी समस्याएं डॉक्टरों के कारण भी है।
इसके अलावा लोग घर का खाना खा रहे हैं, रेस्तराओं का नहीं। इससे भी फर्क पड़ता है।

अगर System अपना काम ठीक से करे और लोगों को साफ पानी पीने का और शुद्ध भोजन मिले तो आधी बीमारियां ऐसे ही खत्म हो जाएंगी।
कनाडा में लगभग ४-५ दशक पूर्व एक सर्वेक्षण हुआ था।
वहां लम्बी अवधि के लिए डॉक्टरों की हड़ताल हुई थी।
सर्वेक्षण में पाया गया कि इस दौरान मृत्यु दर में कमी आ गयी।

स्वास्थ्य हमारी जीवनशैली का हिस्सा है जी केवल डॉक्टरों पर निर्भर नहीं है।
महात्मा गाँधी ने हिन्द स्वराज में लिखा है कि डॉक्टर कभी नहीं चाहेंगे की लोग स्वस्थ रहें;
वकील कभी नहीं चाहेंगे कि आपसी कलह खत्म हो। जो भी हो,
lockdown से परेशानियां हैं जो अपरिहार्य हैं लेकिन इसने कुछ ज्ञानवर्धक एवं दिलचस्प अनुभव भी दिए हैं। ज़रा सोचिये तो।

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

मुंबई, दि. १२ : बृहन्मुंबई महानगरपालिकेने कोरोनाची परिस्थिती लक्षात घेता अभय योजनेची मुदत ३१ डिसेंबर २०२० पर्यंत वाढविण्याचा निर्णय घेतला आहे. सध्या कोरोना संकटामुळे अडचणीत...

READ MORE

कांग्रेस के तेज तर्रार कर्मठ नेता प्रवक्ता राजीव त्यागी नहीं रहे , हार्ट अटैक ने लि जान !क्या है पूरी मी ? जाने !

August 12, 2020 . by admin

नई दिल्ली: कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन हो गया है, हार्ट अटैक की वजह से उनका निधन हो गया है। उनकी पहचान कांग्रेस...

READ MORE

दुनिया में बलात्कार मारकाट अत्याचार हैवानियत, बढ़ती जा रही है सबकुछ देखकर भी  भगवान तुम इतने खामोश हो ,क्यों ?

August 12, 2020 . by admin

रिपोर्टर:- मुल्ला,पंडे,पुजारी चुप है। सेवादार और पादरी चुप है राम,रहीम,गुरु,ईसा,मुरारी चुप है । कैसी विडंबना है भगवान ? तुम भी चुप हो । हम भी...

READ MORE

TWEETS