अगला चुनाव इन्हे पड़ सकता है भारी,बारिश के पहले ही स्टेडियम में मुरम डलवा कर आम जनता के लिए खड़ी कर दी मुश्किलें?


स्टेडियम के भरे पानी की निकासी के लिए कोंग्रेसनित नगर पालिका परिषद का नया कारनामा।

मुख्यमंत्री अधो संरचना से कुछ वर्ष बनी लाखो की नाली व नवनिर्मित सड़क को पहुचाया नुकसान

बारिश के पूरे स्टेडियम में मुरम डलवा कर आम जनता के लिए खड़ी की मुसीबते

चुनाव के पहले ऐसे कारनामे कोंग्रेसनित परिषद को आगामी चुनाव में पड़ेंगे भारी

जुन्नारदेव- हमेशा से नित नए कारनामो के लिए सुर्खियों में रहने वाली कोंग्रेसनित परिषद अपने कार्यकाल के शेष समय मे भी आम जनता को परेशानी से निजात दिलाने के बदले परेशानियों में डाल रही है जानते बुझते हुए ,की बारिश में स्टेडियम जलमग्न हो जाता है फिर भी ऐन बारिश के पहले ठेकेदार पर दबाव डलवा कर स्टेडियम में बड़ी मात्रा में मुरम डलवाया गया।

जिसके कारण स्टेडियम में सोच से कही ज्यादा जल भराव हो गया और विगत 4 वर्षों से कुम्भकर्णी नींद सो रही नगर पालिका में काबिज कोंग्रेसनित परिषद द्वारा बारिश शुरू होने के पूर्व ही सिवाय कंस्ट्रक्शन से स्टेडियम के जीर्णोद्धार के लिए मुरम और बड़े बड़े पत्थर डलवाकर आमजनता के लिए मुसीबते खड़ी कर दी है।

जिससे एक बार फिर कांग्रेसनीत परिषद की जनविरोधी सोच प्रदर्शित हो रही है जो मात्र अपने ही आर्थिक हित को साधने के लिए आमजनता को मुसीबतों में डाल रही है। वंही कमीशन रूपी गिड्डियो के बोझ तले दबे पक्ष में बैठे कोंग्रेस पार्षद ओर विपक्ष में बैठे भाजपा के पार्षदों का मूक दर्शक बन तमाशा देखना भी जनता की निगाहों में है।
जिसका खामियाजा आगामी चुनावों में दोनों ही पार्टियों को देखने को मिलेगा।

प्राप्त जानकारी अनुसार बीते दिवस देर शाम हुई बारिश से स्टेडियम ओर अम्बेडकर तिराहे में हमेशा की तरह जल भराव हो गया। जिसको निकलने के लिए नपा के एक जनप्रतिनिधि के पति के दबाव के चलते नपा द्वारा मुख्यमंत्री अधो संरचना प्रथम चरण से निर्मित लाखो की नाली ओर वर्तमान में बनी कांक्रीट सड़क तोड़ दिया गया।

वंही स्टेडियम में भरे पानी के कारण नाले से लगे पीपल के पेड़ के पास भी भारी मिट्टी का कटाव देखने को मिल रहा है। जिसके चलते रामपुरे स्थित पानी की टंकी में बने सार्वजनिक शौचालय के भी नाले में समाने की संभावना बनती दिख रही है। वंही दूसरी और बारिश के पहले डाले गए मुरम के चलते स्टेडियम के दुकानदार भी सीलन से जूझने को मजबूर हो गए है और सीलन के चलते दुकानों में रखी सामग्री भी प्रभावित होने लगी है।

जिस की वजह से दुकानदारों में भी भारी रोष देखने को मिल रहा है। कोंग्रेसनित परिषद की इस भूमिका को लेकर अब स्थानीय नागरिकों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। अब देखना ये है कि आगामी कुछ महीनों बाद होने वाले नगर पालिका चुनाव में इस कांग्रेसनीत परिषद के नित नए कारनामो से त्रस्त आम जनता कैसे हिसाब बराबर करती है।

साभार :संजय डेहरिया व निरुपम बैनर्जी

SHARE THIS

RELATED ARTICLES

LEAVE COMMENT

अफजल इलाहाबाद क्या आप जानतें हैं कि विश्व बैंक के मालिक सिर्फ़ 13 परिवार हैं ? जी हां विश्व बैंक सरकारी बैंक नहीं है, इसमें...

READ MORE

मिडल ईस्ट में ये एक पिद्दी सा देश है 15,20साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी अचानक ही दुनिया के सामने वो धूमकेतु की तरह उभर ,दूजिया का मीडिया हाउस बना ,कैसे इसे जानिए

June 8, 2022 . by admin

संवाददाता राशिद मोहमद खान मिडिल ईस्ट में एक मामूली सा देश है-कतर पन्द्रह बीस साल पहले इसकी कोई अहमियत नहीं थी। इसके बाद अचानक से...

READ MORE

जापान ,भारत समेत 11देशों को मिसाइल और जेट जैसे घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की इजाजत देने की बना रहा है योजना

May 28, 2022 . by admin

डॉक्टर अरूण कुमार मिश्र जापान भारत समेत ग्यारह देशों को मिसाइल और जेट – घातक सैन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने की बना रहा...

READ MORE

TWEETS